Home Search Forum Register Login

Take Screenshot, Crop & Share image with Friends & Family


खुलेगी इस नज़र पे चश्म-ए-तर आहिस्ता आहिस्ता
किया जाता है पानी में सफ़र आहिस्ता आहिस्ता

कोई ज़ंजीर फिर वापस वहीं पर ले के आती है
कठिन हो राह तो छूटता है घर आहिस्ता आहिस्ता।

/99Chutkule

/99Chutkule

Facebook Twitter Google LinkedIn Email Print Reddit

<< Previous

Next >>