Home Search Forum Register Login

Take Screenshot, Crop & Share image with Friends & Family


अभी इस तरफ़ न निगाह कर,
मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ,

मेरा लफ़्ज़-लफ़्ज़ हो आईना,
तुझे आईने में उतार लूँ।

/99Chutkule

/99Chutkule

Facebook Twitter Google LinkedIn Email Print Reddit

<< Previous

Next >>