Home Search Forum Register Login

Take Screenshot, Crop & Share image with Friends & Family


आँखें न जीने देंगी तिरी बे-वफ़ा मुझे

क्यूँ खिड़कियों से झाँक रही है क़ज़ा मुझे

~इमदाद अली बहर

/99Chutkule

/99Chutkule

Facebook Twitter Google LinkedIn Email Print Reddit

<< Previous

Next >>